पिन कोड क्या है | What is Pin Code in Hindi

पिन कोड क्या है | What is Pin Code in Hindi

पिन कोड Technology के बढ़नें से आज हर कोई पिन कोड का इस्तेमाल कहीं ना कहीं जरूर करता है क्यूंकि पिन कोड का इस्तेमाल कई जगह कई तरीके से होता है हम अपनीं daily life में पिन कोड का इस्तेमाल करते हैं, पिन कोड का मतलब क्या है।

पिन mostly security के purpose से use किया जाता है फिर वो किसी भी type की security हो सकती है जैसे की banking, locker, mobile security etc।

PIN का फुल फॉर्म – Personal Identification Number

 

पिन यानीं की कुछ ऐसे number जिनको हम अपनीं security के लिए इस्तेमाल करते हैं और उस PIN का इस्तेमाल हम अपनें विभिन्न प्रकार के equipment में और अन्य बाकी private चीजों में करते हैं।

पिन कोड क्या है | What is Pin Code in Hindi

पिन एक ऐसा identification number होता है जो हमें किसी company, orginisation द्वारा provide किया जाता है या खुद हम अपना पिन create करते हैं, और उस पिन का इस्तेमाल सिर्फ उस equipment या system को identify करनें के लिए इस्तेमाल किया जाता है जिसके लिए वो PIN create किया गया हो।

पिन भूल जानें की स्थिति में पिन change करनें का option भी मिलता है लेकिन पिन change करनें के लिए भी identification की जरुरत पड़ती है जोकि mostly mostly mobile number द्वारा identify हो जाता है।

पिन का विभिन्न sectors और equipment में इस्तेमाल

पिन का इस्तेमाल mostly identification के लिए होता है लेकिन कुछ cases में verification purpose से भी PIN का इस्तेमाल किया जाता है।

ATMs में पिन का इस्तेमाल – आप चाहे credit card धारक हों या debit card धारक लेकिन जब आप atm machine में अपनें card को insert करेंगे तो किसी भी transaction या account से related अन्य जानकारियों के लिए पिन necessary होता है, और वो पिन उस bank द्वारा issue किया जाता है लेकिन यदि आप भूल जाते हैं तो उसे atm machine में insert करके reset कर सकते हैं।

पिन का इस्तेमाल identity identification के लिए भी किया जाता है जैसे की किसी company या institution का PIN के जरिये आपका verification करना इसके लिए कई अलग अलग तरीके अपनाये जाते हैं।

पिन का घर के equipments में इस्तेमाल, locks में इस्तेमाल, घर के ऐसे बहुत से equipments होते हैं जिसमें पिन locks होते हैं और उसमें आप अपनीं इच्छानुसार कोई भी पिन set कर सकते हैं, और आपके अलावा उस equipment को कोई और access नहीं कर पायेगा।

mobile और computer में पिन का इस्तेमाल – mobile और computers में विभिन्न जगहों पर PIN का इस्तेमाल बहुत अधिक किया जाता है, PIN का इस्तेमाल phone को lock करने में, sim card protection में, banking और wallet apps में।

इस time upi का इस्तेमाल बहुत अधिक किया जाता है upi के जरिये ही अधिकतर लोग अपनें transactions कर रहे हैं जिसकी वजह से लोगों को bank या atm machine में visit नहीं करना पड़ता है।

upi पिन कोड एक बहुत ही sensitive पिन कोड होता है इसी PIN के जरिये सभी transaction किये जाते हैं इसलिए अपनें upi या किसी भी प्रकार के banking PIN को किसी के साथ share ना करें क्यूंकि ये आपके लिए risky हो सकता है।

ठीक इसी तरह PIN के और भी बहुत से इस्तेमाल हैं।

पिन कोड की सुरक्षा और privacy

पिन कोड की security की पूरी जिम्मेदारी आपकी होती है जिसके लिए आपको कोई ऐसा PIN नहीं create करना चाहिए जोकि guess किया जा सके या बहुत simple पिन नहीं create करना चाहिए।

आपको अपना date of birth या mobile number के कुछ digits या कोई भी ऐसा number नहीं डालना चाहिए और ना कोई number जो आपके favorite हों।

और पिन कोड create करते समय एक बात का खास ख्याल रखना चाहिए की एक PIN को multiple equipments में नहीं use करना चाहिए, बल्कि सभी चीजों में एक different PIN use करना चाहिए, ताकि यदि दुर्भाग्यवश किसी को आपके किसी एक equipment के PIN की जानकारी हो जाती है तो उससे आपके किसी equipment पर उसका बिलकुल भी effect ना पड़े।

और जहाँ तक बात है पिन कोड की उस equipment, system में privacy की तो उस PIN को कोई देख नहीं सकता है और ना ही hack कर सकता है क्यूंकि वो PIN encrypted होते हैं, यदि आप कोई PIN भूल जाते हैं तो उसे आप कहीं देख नहीं सकते हैं और इसका सिर्फ एक option है और वो है नया PIN create करना।

लेकिन हाँ कुछ condition में उस system से पिन कोड को पता किया जा सकता है लेकिन उसके लिए शर्त ये है की आप आप उस system के administrator हों और root modification भी आपके control में हो।

जैसे की हम किसी website का example ले सकते हैं, यदि आप कोई ऐसी website use करते हैं जिसपर PIN की जरुरत पड़ती है तो उस पिन कोड को भूलनें की condition में आप नया PIN create कर सकते हैं लेकिन यदि आप उस website के admin हैं और आप login PIN भूल जाते हैं तो आप उसे reset करनें के बजाय उसके database से PIN देख सकते हैं, जैसे की wordpress website के password का पता admin द्वारा phpmyadmin के जरिये पता लगाया जा सकता है।

पिन कोड नंबर की संख्या

वैसे तो अधिकतर जगहों पर 4 digit के PIN use किये जाते हैं और ऐसी condition में आप चाहकर भी long PIN नहीं use कर सकते हैं लेकिन यदि आप कोई ऐसी service use करते हैं जहाँ longer PIN का option available है तो आप 4 digits के बजाय कुछ longer PIN के बारे में विचार करें।

क्यूंकि longer PIN, short PIN से better होते हैं जिससे की कोई भी बहुत आसानीं से आपके PIN को guess नहीं कर पायेगा, और hacking के chances बहुत कम होंगे।

मल्टी टाइम इस्तेमाल

वैसे तो पिन कोड के use करनें पर कोई प्रतिबन्ध नहीं होता है आप चाहे जितनीं बार PIN use करें और अपनें system या services को जैसे चाहें manage करें उससे कोई problem नहीं होती है लेकिन यदि आप multiple time गलत PIN use करते हैं तो ये कुछ समस्याजनक हो सकता है।

यदि किसी service में गलत पिन कोड का इस्तेमाल multiple time होता है तो ये depend करता है की उस service/equipment में login attempt activate किया गया है या नहीं।

यदि उसमें login attempt activate नहीं है तो आप चाहे जितनीं बार गलत पिन कोड use करते हैं उससे कोई problem नहीं होगी लेकिन ऐसा बहुत कम ही होता है, almost सभी PIN secured services में login attempt default रूप से enabled रहता है जिनकी limit 3 – 5 होती है।

यदि इससे अधिक time गलत पिन कोड use किया जाता है तो आपका वो account temporarily block हो जायेगा, जिसे पुनः start करनें के लिए आपको कुछ verification process से होकर गुजरना पड़ सकता है।

पिन कोड एक्सेस

Obviously आपके पिन कोड को एक्सेस नहीं कर सकता है, लेकिन कुछ condition में आपके PIN hack हो सकते हैं क्यूंकि technology बढ़नें के साथ साथ hacking भी बढ़ गयी है और ऐसी बहुत सी techniques हैं जिनके जरिये hackers आपके PIN और अन्य login credential को access कर सकते हैं।

और इसके लिए phising जैसी techniques का इस्तेमाल किया जाता है, इसके लिए hackers द्वारा आपके login credential और PIN को access करनें के लिए fake page बनाया जा सकता है।

और आपको normally message की तरह भेजा जा सकता है, जिसमें आपको विभिन्न प्रकार के offers का लालच दिया जा सकता है लेकिन हकीकत में वो आपके PIN को चोरी करनें का तरीका होता है, क्यूंकि जब आप उस page पर visit करेंगे तो आपको वो page आपके use की जानें वाली services की तरह दिखेगा जिससे की आपको ऐसा प्रतीत होगा की ये original page है

और आप अपने PIN और login credential के साथ login करनें का प्रयाश करेंगे और आपका पूरा login credential उस hacker के पास चला जायेगा जिसमें आपका PIN भी शामिल हो सकता है।

पिन कोड चोरी होनें से बचाना

जाहिर सी बात है की खुद तो किसी को अपना पिन कोड नहीं बताएँगे लेकिन यदि आप अपना PIN चोरी होनें से बचाना चाहते हैं तो उस PIN के साथ registered mobile number का भी आपको ख्याल रखना होगा।

क्यूंकि social media पर बहुत तरीकों से लोगों के mobile number मांगे जाते हैं, बहुत सी fake websites पर भी कुछ hacking के purpose से ही mobile number मांगे जाते हैं, तो याद रहे की आपको अपना mobile number किसी अनजान व्यक्ति को नहीं देना है और ना ही किसी social media पर।

क्यूंकि इनके जरिये hackers आपको target कर सकते हैं आपके पिन कोड और आपके दूसरे जरुरी data को hack करनें का प्रयाश कर सकते हैं।

यदि कहीं से आपको कोई link भेजता है तो यदि आपको उस link पर 100% भरोसा हो तो ही उस page पर visit करें, क्यूंकि हो सकता है की वो link किसी hacker नें आपको अपना शिकार बनानें के लिए create और design किया हो।

जैसे की मान लीजिये आपको hdfc bank से related कोई link भेजा गया है और आप तय नहीं कर पा रहे हैं की वो page original है या fake तो आप directly web browser में search कर सकते हैं और उस page पर जा सकते हैं।

पिन कोड वेरिफिकेशन

PIN identification काफी simple सी process है इसके identification के लिए system द्वारा या फिर आपके द्वारा PIN generate किया जाता है और आपके account के लिए वो PIN उस system (Server, home equipment, etc, जो आप use करते हैं ) में encrypt करके store कर दिया जाता है।

जब आप कोई activity करनें का प्रयास करते हैं तो same उसी PIN की requirement होती है जोकि उस time generate किया गया था और encrypt करके store किया गया था, यदि आप उसको use करते समय गलत PIN डालते हैं तो PIN mismatch होगा और आप उस task को complete नहीं कर पाएंगे।

और जब आप correct पिन कोड enter करेंगे तो आपके द्वारा डाला गया PIN उस service के encrypted PIN से match हो जायेगा जिससे की identify हो जायेगा की आप ही इसके owner हैं और आपका task complete हो जाएगा।

पिन कोड और password में अंतर

वैसे तो इनमें कुछ खास फर्क नहीं होता है क्यूंकि दोनों के purpose almost same होते हैं, कुछ PINs को हम password भी कह सकते हैं और कुछ password को PIN भी कह सकते हैं।

लेकिन जब बात आती है किसी ऐसे पिन कोड की जोकि identification के purpose से issue किया गया हो तो उस condition में PIN password से काफी भिन्न होता है।

password का इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ security purpose से किया जाता है जिससे की उस equipment, service को वही manage का पाएगा जिसके पास उसका password होगा, लेकिन PIN का इस्तेमाल security के साथ साथ identification के लिए भी होता है।

बाकी दोनों की encryption, matching etc process same ही होती है।

तो आपनें इस article में पिन के बारे में सीखा पिन कोड क्या है से related और अन्य भी बहुत सी जानकारियां आपको मिल गयी हैं तो मुझे उम्मीद है की आपको हमारा ये article पसंद आया होगा, और हमारे इस article को अपनें friends के साथ भी जरूर share करें What is Pin Code in Hindi ।

Leave a Comment

एप्सोल हिंदी