इंडियन एयर फोर्स

इंडियन एयर फोर्स भारत की एक सशस्त्र सेना का हिस्सा है और इसका जो वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, एवं वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है, यानि की जिस प्रकार से एक इंडियन आर्मी होता है वह हमारे देश के बॉर्डर पर रह कर हमारे देख की सुरक्षा करती है ठीक उसी प्रकार से इंडियन एयर फाॅर्स का काम हवा में रह कर अपने आशमानी मार्ग या आशमानी सीमा का सुरक्षा की जिम्मेदारी लेती है।

इंडियन एयर फाॅर्स जो स्थापना 8 अक्टूबर सन 1932 में हुई थी यानि की आज के लगभग 89 वर्ष पहले, और इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है, इंडियन एयर फ़ोर्स को भारतीय वायु सेना कहा जाता है, और इसे सॉर्ट में IAF  भी कहा जाता है, और इसी का full form INDIAN AIR FORCE होता है।

इंडियन एयर फ़ोर्स आकाशिए सुरक्षा के साथ साथ हमारे क्षेत्र में नजर बनाये रखने का काम करती है और यह होने वाले दूसरे मुल्क हमारे बिरुद्ध साजिसों का भी पता लगाती है इसका मुख्य कार्य हवा से हवा में मार करना होता है, और किसी भी दैविये आपदा से भी लोगो को बचाना होता है।

इंडियन एयर फोर्स में लगभग 239476 से अधिक सक्रिय सैनिक है और साथ साथ हमारे पास लगभग 11850+ से अधिक विमान है, और इसकी वर्षगाँठ 8 अक्टूबर को वायु सेना दिवस के नाम से पुरे भारत में मनाया जाता है।

भारतीय वायु सेना (इंडियन एयर फ़ोर्स) में सर्वोच्च रैंक , भारतीय वायु सेना के मार्शल है , जो युद्ध के दौरान विशेष सेवा के बाद भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किया जाता है, और इस रैंक को प्राप्त करने वाले अर्जन सिंह एक मात्र अधिकारी है।

मै आपको जानकारी के लिए बता दूँ की एयर फ़ोर्स में कुल 17 रैंक होती है कर सभी रैंक की पाचन और काम अलग अलग होता है जैसा की आप नीचे तालिका में देख सकते है।

मार्शल ऑफ द एयर फोर्स मार्शल ऑफ द एयरफोर्स इंडियन एयरफोर्स की सबसे बड़ी रैंक है, यह युद्ध के दौरान मिलने वाली एक पदवी है, यह फाइव-स्टार रैंक है. इंडियन एयर फ़ोर्स में एकमात्र मार्शल ऑफ द एयरफोर्स  अर्जन सिंह रहे है।
एयर चीफ मार्शल यह चार स्टार वाली रैंक होती है, इनकी वर्दी पर काले और नीले रंग की तीन पतली पट्टी होती है और एक मोती पट्टी होती है, वर्तमान में बीरेंद्र सिंह धनोआ एयर चीफ मार्शल है।
एयर मार्शल एयर मार्शल एयर चीफ मार्शल से जूनियर पद होता है, इसे तीन स्टार वाली रैंक भी कहा जाता है, इनकी वर्दी सोल्डर पर काले और नीले रंग की दो पतली पट्टी होती है और एक मोती पट्टी होती है
एयर वाइस मार्शल एयर वाइस मार्शल इंडियन एयर फ़ोर्स में दो स्टार वाला पद होता है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की एक पतली पट्टी होती है और एक मोती पट्टी होती है।
एयर कमोडोर एयर कमोडोर एयर वाइस मार्शल से जूनियर पर होता है, और इनकी वर्दी में सोल्डर पर एक काले और नीले रंग की मोती पट्टी होती है।
ग्रुप कैप्टन ग्रुप कैप्टन एक सीनियर कमीशन वाला पद होता है, यह रैंक आर्मी के कर्नल के बराबर होती है, इनकी वर्दी पर सोल्डर पर काले और नीले रंग की पतली चार पट्टियां होती है।
विंग कमांडर विंग कमांडर ग्रुप कैप्टन से जूनियर पद होता है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की तीन पतली पट्टी होती है।
स्क्वाड्रन लीडर विंग कमांडर के बाद स्क्वॉड्रन लीडर होते हैं, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की पतली दो पट्टी होती और दोनों के बीच एक और काले रंग की पट्टी होती है।
फ्लाइट लेफ्टिनेंट यह भी कमीशन्ड एयर ऑफिसर की रैंक होती है, जो स्क्वॉड्रन लीडर के बाद आते हैं, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की दो पट्टी होती है।
फ्लाइंग ऑफिसर फ्लाइंग ऑफिसर भी एक कमीशन्ड रैंक का पद होता है , इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले और नीले रंग की एक पट्टी होती है।
मास्टर वारंट ऑफिसर जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर में यह हाइएस्ट रैंक होती है, और इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग के बिल्ले होता है और उसके बगल काले और नीले रंग की दो पट्टियों होती है और उसमे एक अशोक की लाट और बाज का निसान होता है।
वारंट ऑफिसर यह जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर में दूसरी सबसे बड़ी रैंक है, और इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग का एक बिल होता है और  उसके दोनों बगल नीले और काले रंग की एक पट्टी होती है, और बिल्ले में एक अशोक की लाट और एक बाज का निशान होता है।
जूनियर वारंट ऑफिसर यह अधिकतर टेक्निकल लीडर होते हैं, और इनकी वर्दी में कंधो पर एक काले रंग का बिल्ला होता है और उसमे एक अशोक की लाट और एक बाज का निशान होता है
सार्जेंट जूनियर वारंट ऑफिसर के बाद सार्जेंट की रैंक आती है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग से घिरी सफ़ेद रंग की V आकार की 3 धारियों होती है, और उसके ऊपर एक बाज का निशान होता है
कॉर्परल यह मिलिट्री रैंक है, जो सैनिकों के समूह को देखते हैं, इनकी वर्दी में सोल्डर पर काले रंग से घिरी सफ़ेद रंग की V आकार की 2 धारियों होती है, और उसके ऊपर एक बाज का निशान होता है
प्रमुख एयरक्राफ्टमैन यह पारिभाषिक रूप से कोई पद नहीं है, लेकिन यह एयर फोर्स में बिना कमीशन प्राप्त अधिकारियों को दिया गया एक टाइटल है।
एयरक्राफ्टमैन यह इंडियन एयरफोर्स की सबसे छोटी रैंक है, इनकी वर्दी में सोल्डर पर एक बाज का निशान होता है।

तो ये थी कुछ जानकारी इंडियन एयर फोर्स के बारे में, तो हमे उम्मीद है की आप सभी को हमारा article अच्छे से समझ में आ गया होता और आप सभी को पसंद भी आया होगा।

Leave a Comment

एप्सोल हिंदी