बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज)

बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज), यदि आप शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने की सोंच रहे  है या आप शेयर मार्केट के  बारे में शीख रहे है तो आपको कई बार बीएसई का नाम जरूर सुनने को मिला होगा, तो आज के इस पोस्ट में हम इसी के बारे में  जानकारी देंगे, आज हम इसमें जानेंगे की बीएसई क्या है, ये कैसे काम करता है और इसके बारे में कुछ बेसिक जानकारी जो की आपको जननी चाहिए यदि आप शेयर मार्केट में जाना चाहते है।

बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) क्या है, इसका काम क्या है और यह कैसे काम करता है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज एक एक्सचेंज है, और ये भारत के साथ साथ एशिया महाद्वीप का सबसे पुराना एक्सचेंज है इसकी स्थापना  1875 में मुंबई शहर में हुई थी, और  इसके एमडी और सीईओ आशीष कुमार चौहान जी है, और बीएसई का मार्केट कैपिटल  लगभग 1.43 ट्रिलयन डॉलर है।

बीएसई एक्सचेंज पर  इक्विटी, डेरीवेटिव्स, कमोडिटी और करेंसी आदि की ट्रेडिंग और होती है, बीएसई एक्सचेंज पर लगभग 4000 के आस पास कम्पनियाँ लिस्टेड है और उनपर लगातार व्यापर होता रहता है, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर लोगो द्वारा सेंसेक्स इंडेक्स को सबसे ज्यादा लोकप्रियता दी जाती है।

सेंसेक्स इंडेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का एक इंडेक्स है, इस इंडेक्स में 30 कम्पनियाँ शामिल है,  जिसमे भारत के लगभग 13 अलग अलग सेक्टर के 30 लीडर कम्पनियों के शेयर को मिला कर बनाया गया है, इसमें वही शेयर लिस्ट हो पाते है जिनका ट्रक रिकॉर्ड अच्छा है और वो मार्किट में अपने सेक्टर के लीडर होते है और जिसका मार्केट कैपिटल अच्छा होता है।

और बीएसई में सबसे अच्छा माना जाने वाला Index Sensex  ही है, बीएसई  को चलाने में Sensex की अहम भूमिका होती है, क्योंकि बीएसई में जो भी ट्रैड या निवेश करते है

जिस प्रकार से एनएसई को लोग निफ़्टी 50 के नाम से पहचानते है ठीक उसी प्रकार से कुछ लोग बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को सेंसेक्स 30 इंडेक्स के नाम से ही जानते है,  बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज  इक्विटी डेरीवेटिव्स को शुरू करने वाला पहला एक्सचेंज है जिसको हम फ्यूचर और ऑप्शन भी बोलते है या शार्ट में F&O भी  बोला जाता है।

इस एक्सचेंज को शुरू में मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के नाम से जाना जाता था  और 2002 में इसका नाम मुंबई एक्सचेंज से बॉम्बे एक्सचेंज यानि की शार्ट में बीएसई रख दिया गया, और तब से अब तक लोग इसे बीएसई के नाम से ही जाना जाता है।

यदि आप किसी भी कम्पनी में हिस्सेदारी लेना चाहते है या उस कंपनी का शेयर खरीदना चाहते है तो उसके लिए आपको किसी भी ब्रोकर के पास आना एक ट्रेडिंग अकाउंट और डीमेट अकॉउंट ओपन करवाना पड़ता है, और आप अपने ब्रोकर के माध्यम से ही किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद या बेच पाते है।

जब आप आने ब्रोकर को buy करने के लिए कहेंगे तो वो आपके द्वारा बताये शेयर को खरीदता है और जब आप उसे sell करने को कहते है तो आपके शेयर को बेचता है और यह खरीद बेच ब्रोकर एक्सचेंज के माध्यम से करता है, बीएसई भारतीय पूँजी बाजार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

यह सबसे पुराना एक्सचेंज होने के साथ साथ 500 से भी ज्यादा शहरों में फैला है, बीएसई एक्सचेंज पर इकुटी, कॉमोडिटी, करेंसी और डेरिवेटिव्स आदि की ट्रेडिंग होती है, यदि कोई भी निवेशक बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड किसी भी कंपनी के शेयर मे निवेश करना चाहता है तो सबसे पहले उसको अपने ब्रोकर के प्लेटफॉर्म पर मार्किट आर्डर के द्वारा आर्डर देना होता है, तो बीएसई आपका आर्डर स्वचालित कंप्यूटर के माध्यम से किसी दूसरे के मारकेट आर्डर से मिलान करता है, और अगर मिलान हो जाता है तो आपका आर्डर बीएसई लगा देता है यदि आर्डर किसी से मिलान नही खाता तो आपका आर्डर कैंसिल हो जाता है।

यानी जब आप किसी भी शेयर को Buy कर रहे होते है तो उसे कोई Sell भी कर रहा होता है, तो यदि दोनों आर्डर एक साथ लगते है buy या sell का तो ही आपका ऑर्डर एक्सिक्यूट होता है, और ये सभी चीजो कोबीएसई एक्सचेंज मैनेज करता है,  और इसमें Buy करने वाले और Sell करने वाले कि पहचान छुपी होती है, ये सभी काम बीएसई करता है, और उसकी जिम्मेदारी भी होती है।

जब भी किसी भी कम्पनी को किसी भी बड़े फण्ड की जरूरत होती है, या अपने कंपनी को बीएसई एक्सचेंज पर लिस्टेड करवाना होता है  तो ऐसे में कम्पनी अपना Ipo जारी करती है और जोकि बीएसई के माध्यम से ही होता है और लोग उसमे अपने पैसे का निवेश करते है और बाद में वह कम्पनी बीएसई एक्सचेंज पर लिस्ट होती है और सभी लोग उसके शेयर में अपनी हिस्सेदारी लेते है या ट्रैड करते है।

और मैं आपको जानकारी के लिए बता दूँ की शेयर मार्केट के सभी एक्सचेंज एनएसई और बीएसई  सुबह 9:15 Am पर ओपन होता है और साम को 3:30 Pm पर बंद होता है, इसी के बीच में ही सभी ट्रैड बीएसई में लगाए और काटे जाते है।

तो ये थी कुछ जानकारी बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) के बारे में, तो हमे उम्मीद है की आप सभी को हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छे से समझ में आ गई होगी।

Leave a Comment

एप्सोल हिंदी