संविदा नौकरी क्या है

आज के इस पोस्ट में मै आप लोगो को संविदा की नौकरी के बारे में जानकारी दूंगा जिसमे आपको संविदा क्या है, संविदा की जरूरत क्या है. इसमें मिलने वाली सैलरी, और साथ में क्या क्या सुबिधाये मिलती है, संविदा में नौकरी करने वालो का फ्यूचर क्या है, क्या संविदा में नौकरी करने वाला व्यक्ति सरकारी हो जाता है या नहीं, इसका सिलेक्शन प्रोसेस क्या है आदि के बारे में अच्छे से जानने का प्रयास करेंगे।

आज के ज़माने में आपको पता होगा की सरकारी नौकरी मिलना कितना मुश्किल है, और इसके लिए मेहनत कितनी करनी पड़ती है, सरकारी नौकरी न मिलने की वजह से लोग प्राइवेट सेक्टर में जाना चाहते है और वहां पर नौकरी करना चाहते है, तो अगर आप भी नौकरी ढूंढ रहे है और आपको कोई सरकारी या प्राइवेट नौकरी नहीं मिल रही है तो ऐसे में संविदा पर नौकरी करना आपके लिए एक वेहतर ऑप्शन हो सकता है, तो आज के इस article में हम आप लोगो को इसी के बारे में जानकारी देने वाले है।

संविदा/कॉन्ट्रैक्ट (ठेका) नौकरी क्या

संविदा के बारे में कुछ भी जानने से पहले आपको ये जानने की जरूरत है की संविदा क्या है और ये किस प्रकार से काम करता है, क्योंकि हम संविदा का नाम बहुत बार अपने आस पास सुनते है लेकिन हमको ये ही नहीं पता होता है की संविदा क्या है और ये किस लिए बनाया गया है।

अगर मै आपको संविदा के बारे में बताऊं तो संविदा एक कानूनी रूप से बाध्यकारी समझौता है जो दो पक्षों के बीच या उनके बीच अधिकारों और कर्तव्यों को परिभाषित और नियंत्रित करता है, यानि हम ये भी कह सकते है की संविदा एक प्रकार से शासकीय नौकरी जैसे होता है जिसमे संविदा पर  नौकरी करने वाला व्यक्ति बिल्कुल सरकारी कर्मचारी के तरह ही काम करता है, और सरकारी नौकरी की तरह नियमों के आधीन रहता है।

संविदा को कांट्रैक्ट या ठेका भी कहा जाता है जोकि आपस में दो लोग या दो कंपनियों के बीचे होता है. या फिर किसी कम्पनी और उस कम्पनी में काम करने वाले लोगो के बीच एक कानूनी तौर पर वादा होता है, जोकि कम्पनी और कंपनी में काम करने वाले को दोनों को पालन करना होता है।

संविदा कर्मचारी के सिलेक्शन की जरूरत

आज के इस बेहद मुश्किल समय में लोगो को सरकारी नौकरी या कोई अच्छी प्राइवेट नौकरी पाना बहुत ही मुश्किल काम हो गया है,ऐसे में आपके पास संविदा पर नौकरी में आपका सलेक्शन होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि आपको अपने परिवार या अपने आप को मेंटेन करने के लिए आपके पास कोई न कोई नौकरी का होना बहुत ही जरूरी है।

सीमित सुविधाएं

हालाँकि जब आप कोई भी संविदा की नौकरी पाते है तो उसमे आपको बहुत सी सुविधाएं मिलती है, लेकिन वो सभी सुविधाएं सीमित होती है, उनका एक दायरा होता है, और लिमिटेटिन होती है,  जिसकी तुलना न तो आप सरकारी से कर सकते है और न ही प्राइवेट नौकरी से कर सकते है।

क्योंकि जैसा की आपको पता होगा की संविदा में सरकारी नौकरी के मुकालबे सैलरी काम मिलती है और साथ में और भी सुविधाएं कम ही मिलती है, और प्राइवेट के मुकालबे भी सुविधाएं कम ही होती है कुछ मामलों में प्राइवेट से संख्या में ज्यादा सुविधा मिलती है लेकिन वो सीमित होती है न तो घटती है और न ही बढ़ती है, लेकिन प्राइवेट में सुविधावो के बढ़ने के चांसेस ज्यादा होते है।

सीमित सैलरी

संविदा में अगर आप नौकरी करते है तो आपने देखा होगा की संविदा में सरकारी नौकरी से कम सैलरी मिलती है और काम कही ज्यादा होता है संविदा में सरकारी नौकरी के मुकालबे, संविदा पर नौकरी लोग इस लिए नौकरी करना चाहते है की पहला तो उनकाे सरकारी नौकरी नहीं मिलती और इसमें सरकारी होने का चांस होता है, जब तक आपकी नौकरी नहीं मिल जाती आप अपने काम को संविदा का तौर पर करते है एक सीमित सैलरी के साथ।

कुछ डिपार्टमेंट में जरूरत के हिसाब से सिलेक्शन या रिजेक्शन होना

संविदा पर नौकरी करने वाले लोगो का कुछ डिपार्टमेंट में जरूरत के हिसाब से सिलेक्शन और रिजेक्शन होता रहता है, सस्था या कम्पनी को जब जरूरत होगी वो लोगो को भर्ती करेगा और जब जब उसको लगेगा की लोगो को जरूरत नहीं तो वो लोगो को निकलता रहता है।

संविदा सरकारी नौकरी का फ्यूचर

वैसे तो संविदा पर नौकरी करना कोई गलत निर्णय नहीं होता लेकिन अगर इसका  फ्यूचर देखा जाये तो कुछ खास नहीं होता बस इसमें ये होता है की अगर आप अपने कामो को अच्छे से ईमानदारी से करते है तो काफी दिनों के बाद इसमें आपकी नौकरी जिस डिपार्टमेंट में आप संविदा में नौकरी कर रहे है उसी डिपार्टमेंट में सरकारी होने का स चांस रहता है बस

सिलेक्शन प्रोसेस योग्यता

अगर आप किसी भी डिपार्टमेंट में सविदा पर नौकरी कर रहे है तो या आप करना चाहते है तो आपको इसके लिए सिलेक्शंन प्रोसेस के बार में जानकारी होना चाहिए, तो अगर आप सिलेक्शन प्रोसेस के बारे में जानना चाहते हो तो मै आपको बता दूँ की संविदा पर नौकरी के लिए सिलेक्शन प्रोसेस और योग्यता अलग अलग डिपार्टमेंट में अलग अलग होती है।

अगर योग्यता की बात करे तो आप जिस भी डिपार्टमेंट के नौकरी करने जा रहे है उससे सम्बंधित डिग्री आपके पास होनी चाहिए, लगभग सभी में सिलेक्शन प्रोसेस प्रतियोगिता परीक्षा के माध्यम से होता है।

संविदाकर्मी की नौकरी पक्की होना

नौकरी पक्की होने की गारंटी नहीं

जब भी आप कोई भी संविदा पर नौकरी करते है तो लगभग सभी लोगो का यही मानना होता है की उनकी आगे चल कर उसी डिपार्टमेंट में सरकारी नौकरी हो जायेगा, लेकिन मै आपको जांनकारी के लिय बता दूँ की ऐसा कोई पक्का नहीं होता की आप जो संविदा की नौकरी कर रहे है तो आगे चल कर पक्की या सरकारी हो जायगी, लेकिन चांसेस ज्यादा होते है की अगर आप अपने कामों को ठीक से करेंगे तो आगे चल कर आपको नौकरी पक्की या सरकारी हो जाएगी।

कुछ डिपार्टमेंट या कुछ राज्यों में नियम परिवर्तन होना

आये दिन अलग अलग राज्यों में संविदा की नौकरी को लेकर नियम परिवर्तन होता रहता है क्योंकि जैसे जैसे समय बदल रहा है उसी तरह से सरकार अपने अलग अलग डिपार्मेंट में कर रहे संविदा पर या सरकारी नौकरियों में नियमो को बदल रही है और आवस्यकता अनुसार अपने डिपार्टमेंट में परिवर्तन ला रही है।

यूपी में पांच साल तक संविदा नौकरी पर रखने का विचार

नियम परिवर्तनों में कुछ सूत्रों से पता चला है की यूपी में पांच वर्ष तक संविदा नौकरी पर लोगो को रखने का विचार यूपी सरकार कर रही है, मतलब अगर आप सरकारी नौकरी करना चाहते है तो आपको कम से कम पांच वर्ष सविदा के तौर पर नौकरी करना पड़गा, हलांकि ये अभी लागू नहीं हुआ है अभी केवल यूपी सरकार इस बात पर विचार ही कर रही है हो सकता है की अगर फ्यूचर में ये चीजे देखने को मिले, लेकिन इसका ज्यादा तर लोग विरोध ही कर रहे है।

यदि संविदा नौकरी मिल रही तो आपके लिए ये उचित होगा

बहुत से लोगो का ये सवाल होता है की उनको संविदा पर नौकरी मिल रही है क्या उन्हें करना चाहिए या नहीं करना चाहिए, देखिए इसका कोई एक जबाब नहीं होता और ये इसका जबाब अलग अलग लोगो के लिए अलग अलग हो सकता है क्योंकि सभी के अपने अपने विचार होते है, तो अगर आप ये जानना चाहते है की हमे संविदा पर नौकरी करना चाहिए या नहीं तो ये आपके ऊपर निर्भर करता है,  लेकिन अगर अगर लोगो का इस चीज पर विचार देखा जाय तो कुछ लोगो के लिए ये सही होता है और कुछ लोगो के लिए ये गलत होता है।

इसमें अगर आप एक सही निर्णय लेना चाहते है तो आपको संविदा की नौकरी के बारे में अच्छे से समझना होता की संविदा क्या है संविदा क्यू है, और इसके फायदे क्या है और इसके नुकसान क्या क्या है इन सभी चीजों के समझने के बाद ही आप इस पर कोई सही निर्णय ले सकते है।

तो ये थी कुछ जानकारी संविदा नौकरी के बारे में, तो मै उम्मीद करूंगा की आप सभी को हमारा article अच्छे से समझ में आ गया होगा संविदा नौकरी क्या है और आपको इस पोस्ट के माध्यम से या भी समझ में आ गया होगा की आपको संविदा पर नौकरी करना चाहिए या नहीं।

Leave a Comment

एप्सोल हिंदी